Day: January 6, 2019

#जनता- जनार्दन

मैं जागूँगा…

0

ध्रुव हर्ष द्वारा लिखी गई यह कविता.. आज तो आख़िरी रात है, मैं जागूँगा…उनके लिएजिन्होंने मुझे कभी नहीं अपनाया। वे जिन्हें मैं चूमना चाहता था उन मीराओं और मेहरून्निसाओं के लिए जो मेरे लिए कविताएँ लिखतीं थी और कमर में […]